Jansansar
धर्म

पूज्य मोरारी बापू द्वारा आयोजित ऐतिहासिक 12 ज्योतिर्लिंग राम कथा यात्रा गुजरात के तलगाजरडा में समाप्त हुई

तलगाजर्डा, महुवा, 9 अगस्त: पूज्य कथाकार मोरारी बापू द्वारा सभी 12 ज्योतिर्लिंगों में राम कथा का आयोजन करने की अनूठी पहल 8 अगस्त को गुजरात के तलगाजरडा में बापू के चित्रकुटधाम में समाप्त हुई। पवित्र केदारनाथ के पहाड़ों से शुरू होकर सोमनाथ के तट पर समाप्त हुई 12,000 किमी से अधिक की यात्रा सिर्फ १८ दिनों में पूर्ण की गयी और भक्तों के लिए आध्यात्मिकता और आत्मखोज का एक अनूठा अनुभव रही। पूज्य मोरारी बापू ने सनातन धर्म के शैव और वैष्णवों सहित विभिन्न समूहों और समुदायों के बीच सद्भाव और सह-अस्तित्व के बीज बोने के लिए 12 ज्योतिर्लिंगों में राम कथा के शब्दों का प्रचार करने की पहल की।

1008 भक्तों को राम कथा सुनने के साथसाथ सभी १२ ज्योतिर्लिंग के दर्शन करने का भी अवसर प्रदान हुआ। भक्तों को उत्तराखंड में केदारनाथ ज्योतिर्लिंग, काशी में विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग, झारखंड में बैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग, आंध्र प्रदेश में मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग, तमिलनाडु में रामेश्वरम ज्योतिर्लिंग, महाराष्ट्र में नागेश्वर, भीमाशंकर, त्रयंबकेश्वर और घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग, मध्य प्रदेश में ओंकारेश्वर और महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग, और अंत में सोमनाथ ज्योतिर्लिंग के दर्शन करने का अवसर मिला। भक्तों ने पवित्र धामों ऋषिकेश, जगन्नाथ पुरी, तिरूपति बालाजी और द्वारकाधीश धाम के दर्शन का भी अनुभव लिया।

यात्रा के उद्देश्य के बारे में बात करते हुए, पूज्य बापू ने कहा कि तीर्थयात्रा “निर्हेतु” थी , जिसका कोई गुप्त उद्देश्य नहीं था, लेकिन वह निश्चित रूप से ज्योतिर्लिंगों, धामों और अन्य सभी पवित्र हिंदू स्थलों सहित संतान धर्म की पवित्रता और भक्ति के केंद्रों को फिर से जीवंत करने में मदद करेगी। बापू ने इस बात पर जोर दिया कि हालांकि सभी मंदिर पहले से ही शुद्ध और पवित्र हैं, उन्हें भी साफ और बेहतर व्यवस्थित रखने की जरूरत है ताकि आम आदमी भी आसानी से उन तक पहुंच सके और आंतरिक शांति और दिव्यता के साथ संबंध पाने के लिए दर्शन प्राप्त कर सके।

बापू ने यह भी कहा कि स्वच्छ भारत को बढ़ावा देने और काशी और उज्जैन में भव्य गलियारे बनाने के सरकार के प्रयासों को अन्य प्रमुख तीर्थस्थलों के नवीनीकरण के मॉडल के रूप में देखा जाना चाहिए। इस कथा के माध्यम से बापू ने “एक भारत, श्रेष्ठ भारत” के विचार का भी उत्सव मनाया और अमृतकाल के तहत चल रहे उत्सवों के बीच भारत की सांस्कृतिक विविधता की ओर ध्यान आकर्षित किया।

कई संतों का मानना है कि आत्म-साक्षात्कार मानव जीवन का अंतिम लक्ष्य है, पर बापू का मानना है कि एक साधु को अंतिम व्यक्ति तक पहुंचना चाहिए और उसके भीतर के दीपक को प्रज्ज्वलित करने का प्रयास करना चाहिए। कई मायनों में, ज्योतिर्लिंग राम कथा यात्रा देश के चार कोनों उत्तर, दक्षिण, पूर्व और पश्चिम में लोगों से जुड़ने और उन्हें आध्यात्मिक उत्साह प्रदान करने का एक प्रयास था। कथा के अंतिम दिन, बापू ने इस बात पर जोर दिया कि 12ज्योतिर्लिंग राम कथा यात्रा सांस्कृतिक एकता एवं राष्ट्रीय एकता लाने की एक पहल थी।

देश भर के भक्तों के बीच सनातन धर्म की शिक्षाओं और तर्कों को फैलाने के उद्देश्य से, राम कथा यात्रा शांति और सद्भाव के बीज बोने पर केंद्रित थी, और भारतवर्ष के मूल समान समृद्ध इतिहास और प्राचीन ज्ञान के उत्सव में देश भर के समुदायों को एकजुट किया।

सनातन धर्म का कायाकल्प करते हुए और रामचरितमानस की शिक्षाओं को आधुनिक समाज के लिए प्रासंगिक करने के प्रयास में, बापू ने स्वच्छता, समानता, सद्भाव, एकता और शांति के साथ सह-अस्तित्व के मूल्यों को कायम रखते हुए एक आदर्श समाज के निर्माण के महत्व के बारे में बात की। कथा का आयोजन देश भर के भक्तों तक हमारे धर्मग्रंथों का प्राचीन ज्ञान पहुंचाने, उनमें हमारी संस्कृति, धर्म और हमारे देश की विविधता के प्रति गर्व पैदा करने के लिए किया गया था। अत्यंत समर्पण के साथ, भक्तों ने केवल 18 दिनों में आध्यात्मिकता की ट्रेन पर सवार होकर हर्षोल्लास और उत्सव के साथ 12,000 किमी की यात्रा की, और समग्र वातावरण को भजन, मंत्र, मंत्रोच्चार और धार्मिक अनुष्ठानों से भर दिया।

12 ज्योतिर्लिंग राम कथा यात्रा के सफल समापन के साथ, मोरारी बापू की विरासत और समृद्ध बनी है। यात्रा के अंत में, बापू ने खुले तौर पर घोषणा की कि यद्यपि यह उनका 900वां धार्मिक प्रवचन था, आज का समापन एक चल रही यात्रा में एक विराम मात्र था जो कुछ दिनों में कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में फिर से शुरू होने वाली है। पृथ्वी की परिक्रमा करते हुए हवा में कथा करना, जहाज़ में, कैलाश पर, भुसुंडी सरोवर आदि जैसे कई ऐतिहासिक मील के पत्थर बापू ने पहले ही पूरे कर लिए हैं।

इस महत्वपूर्ण 12 ज्योतिर्लिंग राम कथा रेल यात्रा को आईआरसीटीसी के सहयोग से दो विशेष ट्रेनों – कैलाश भारत गौरव और चित्रकूट भारत गौरव ट्रेनों – द्वारा सुविधाजनक बनाया गया था। कथा का आयोजन आदेश चैरिटेबल ट्रस्ट के माध्यम से इंदौर के बापू के पुष्प (भक्त) रूपेश व्यास द्वारा किया गया था।

मोरारी बापू के विषय में

मोरारी बापू एक प्रसिद्ध आध्यात्मिक गुरु और रामायण प्रतिपादक हैं जिन्होंने अपना जीवन भगवान राम की शिक्षाओं के प्रसार और सत्य, प्रेम और करुणा के मूल्यों को बढ़ावा देने के लिए समर्पित कर दिया है। राम चरित मानस पर 900 से अधिक प्रवचनों और कथाओं के साथ, मोरारीबापू की ज्ञानवर्धक और आकर्षक प्रस्तुति ने भारत और दुनिया भर में लाखों लोगों के दिलों को छुआ है। उनका मिशन आध्यात्मिक जागृति को बढ़ावा देना और व्यक्तियों को सादगी, भक्ति और धार्मिकता में निहित जीवन जीने के लिए प्रेरित करना है। उनकी सभी कथाएँ जाति, पंथ या धर्म के व्यक्तिओं के लिए खुली हैं। एक नियमित प्रथा के रूप में, कथा में आने वाले सभी लोगों के लिए प्रसाद के रूप में मुफ्त भोजन परोसा जाता है।

Related posts

गुरु पूर्णिमा के अवसर पर भाजपा बिहार में प्रदेश मंत्री एवम् प्रभारी कोसी प्रमंडल  सरोज कुमार झा ने मठ, मंदिरों में लिया आशीर्वाद

Ravi Jekar

कानपुर में गंगा के कायाकल्प: सरकार के प्रयास और परिवर्तनकारी पहलों का प्रमाण

Jansansar News Desk

सूरत में पौषवद एकादशी: जीवित केकड़े की पूजा और धार्मिक महत्व

Jansansar News Desk

उद्यम ही भैरव है: शिव के उपदेश से प्रेरित ध्यान और अध्ययन

Jansansar News Desk

भगवान जगन्नाथ Bhagwan Jagannath के विशेष वस्त्र: ओडिशा के राउतपाड़ा गांव के बुनकरों द्वारा बुने जाने वाले वस्त्र

JD

आषाढ़ी बीज पर भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा की तैयारी: इस्कॉन मंदिर, जहांगीरपुरा में रथ निर्माण कार्य शुरू

Jansansar News Desk

Leave a Comment