Jansansar
कलर्स
मनोरंजन

विश्व संगीत दिवस: कलर्स के कलाकारों ने संगीत को लेकर अपना अनुभव साझा किया

कलर्स के ‘खतरों के खिलाड़ी 13’ की प्रतियोगी, रश्मीत कौर कहती हैं, “मेरी संगीत की यात्रा हर तरह से अविश्वसनीय रही है। यह एक रोमांचक रोलर-कोस्टर राइड रही है। सिख संगीत के प्रति मेरी मां के जुनून और उनकी गुरबानी कीर्तन की शिक्षा ने संगीत के प्रति मेरे प्यार की नींव रखी। मैं आभारी हूं कि संगीत ने मुझे आशीर्वाद दिया और मेरी कला बन गई। मेरे स्कूल और कॉलेज के दिनों में बैंड बनाने से लेकर कई प्रतियोगिताओं में भाग लेने तक, संगीत हमेशा से मेरी प्रेरणा शक्ति रही है। आज, मुझे दुनिया भर में प्रदर्शन करने और लोगों के जीवन में खुशी लाने का सौभाग्य मिला है। लोगों को खुश करना ही संगीत है। इसमें लोगों को एक अलग दुनिया में ले जाने की असाधारण शक्ति है। यही मुझे गाने और गीत बनाने के लिए प्रेरित करता है। अपनी संगीत की यात्रा पर विचार करते हुए, मुझे एहसास होता है कि संगीत से मैंने जो सबक सीखा है, उसने जीवन की चुनौतियों में मेरा मार्गदर्शन किया है। विश्व संगीत दिवस पर, मैं ईश्वर और मेरे श्रोताओं को उनके अटूट समर्थन के लिए हार्दिक आभार व्यक्त करती हूं।”

कलर्स के ‘खतरों के खिलाड़ी 13’ के प्रतियोगी डिनो जेम्स ने अपनी संगीत की यात्रा के बारे में खुलकर बात की और कहा, “मैं ऐसा शख्स हूं जो कभी जीवन के बारे में बहुत कम जानता था, जो संघर्ष कर रहा था, अजीबोगरीब काम कर रहा था, और गुमनामी में जी रहा था। फिर, हिप-हॉप की दुनिया में मेरी यात्रा शुरू हुई और सब कुछ बदल गया। मैं संगीत का आभारी हूं कि इसके कारण से मुझे एक आरामदायक जीवन मिला और अपने माता-पिता की देखभाल करने में सक्षम हो सका, यह सब इसलिए क्योंकि मैंने संगीत को अपनाया। हिप-हॉप ने मुझे चुना, और मैं खुद को भाग्यशाली मानता हूं कि मेरी यात्रा ने दूसरों को प्रेरित किया। मेरा जीवन हिप-हॉप की बदौतल है, और बदले में, मैं अपना जीवन इसके लिए समर्पित कर रहा हूं। ईश्वर की कृपा से, मुझे ऐसे कई महत्वाकांक्षी कलाकारों का मार्गदर्शन करने का अवसर मिला है, जो भारत में इस शैली का प्रसार करने का प्रयास करते हैं। इस विश्व संगीत दिवस पर, मैं आशा करता हूं कि सभी महत्वाकांक्षी संगीतकार अपने अंदर के पूरे साहस से अपनी पूरी क्षमता को प्रकट कर सकेंगे।”

कलर्स के ‘जुनूनियत’ में जॉर्डन की भूमिका निभाने वाले गौतम सिंह विग कहते हैं, “संगीत सार्वभौमिक भाषा है, जो सभी सीमाओं को पार करती है और हमारे मन तक गहराई में पहुंचती है। यह हमारी भावनाओं को दर्शाता है, हमारे विचारों को प्रदर्शित करता है, और इसमें उन्हें बदलने की अविश्वसनीय शक्ति है। जॉर्डन का किरदार निभाने वाले अभिनेता के रूप में, जो संगीत के प्रति मेरे जुनून को दर्शाने वाला किरदार है, मैंने पहली बार इसके जादू को अनुभव किया है। संगीत राहत दे सकता है, घावों को भर सकता है, और प्रेम की ज्वाला जला सकता है। यह ऐसी शक्ति है जो हर उम्र के लोगों को एक साथ जोड़ती है। संगीत दिवस के इस विशेष अवसर पर, मैं सभी को हार्दिक शुभकामनाएं देता हूं। मेरी कामना है कि संगीत इस दुनिया में खुशी, सद्भाव और एकजुटता लाता रहे!”

कलर्स के ‘जुनूनियत’ में जहान की भूमिका निभाने वाले अंकित गुप्ता कहते हैं, “हम सभी इस बात से सहमत हो सकते हैं कि संगीत ऐसी अभिव्यक्ति का शक्तिशाली रूप है, जो शब्दों से परे है। विभिन्न भाषाओं के कई प्रकार के संगीत को सुनते हुए बड़े होने के बाद, मैंने देखा है कि भले ही इस कला की पसंद अलग-अलग देशों में भिन्न हो, लेकिन इसका भावनात्मक मूल सार्वभौमिक है। यह सोचना वास्तव में आश्वस्त करता है कि दूर देश में कोई व्यक्ति मेरे द्वारा अनुभव की जाने वाली भावनाओं से जुड़ सकता है। मेरे किरदार जहान की तरह, मुझमें भी संगीत सुनने और जीवन की चुनौतियों के खिलाफ ढाल की तरह इसका उपयोग करने का गहरा जुनून है। मुझे उम्मीद है कि एक दिन मैं किसी वाद्ययंत्र में इतना निपुण हो जाऊंगा कि मैं उसे कान से भी बजा सकूं। आइए हम संगीत की शक्ति का जश्न मनाने के लिए एकजुट हों, जो हम सभी को जोड़ने वाली भाषा है। हैप्पी म्यूज़िक डे!”

कलर्स के ‘जुनूनियत’ में इलाही की भूमिका निभाने वाली, नेहा राणा कहती हैं, “संगीत हमेशा से मेरे जीवन का बहुत खास हिस्सा रहा है, और मेरा मानना है कि यह ‘जुनूनियत’ में मेरे किरदार में खुद ही प्रकट होता है। मेरे माता-पिता, जो रेट्रो बॉलीवुड संगीत के उत्साही प्रशंसक रहे हैं, उन्होंने इसके लिए अपना प्यार मुझे दिया। मुझे याद है कि बचपन में, मुझे लताजी, आशाजी, किशोरजी और रफी साहब जैसे दिग्गजों को सुनने का शौक था। अब भी, ये वे गाने हैं जिन्हें मैं अपनी कार में या घर पर आराम करते हुए सुनने का आनंद लेती हूं। संगीत के प्रति यही जुनून मुझे गायन के प्रति इलाही के जुनून से जोड़ता है। शोरगुल से भरी इस दुनिया में, स्वरों का यह सामंजस्य हमारे लिए और भी कीमती हो जाता है। संगीत में हमें किसी और दुनिया में ले जाने, यादों को जगाने, और हमें हमारे अंतर्मन से जोड़ने की अविश्वसनीय शक्ति है। यह एक सार्वभौमिक शक्ति है जो हम सभी को जोड़ती है। इस विशेष दिन पर, आइए हम संगीत की परिवर्तनकारी शक्ति को अपनाएं और आशा करें कि यह एक समय में एक गीत से दुनिया को बेहतर जगह बनाएंगे। मैं उन सभी संगीत प्रेमियों, संगीतकारों, गायकों और संगीत के उत्साही लोगों की सराहना करता हूं जिन्होंने कला के इस स्थिर रूप में योगदान दिया है।”

कलर्स के ‘प्यार के सात वचन धर्मपत्नी’ में रवि रंधावा की भूमिका निभाने वाले, फहमान खान कहते हैं, “मेरा मानना है कि संगीत हम सभी को जीवन के उथलपुथल से बचाता है। संगीत के प्रति मेरा प्यार मेरे फिल्मी परिवार से शुरू हुआ, जो हिट गानों पर थिरकते थे। अगर आप मुझे कभी गाने के लिए कहेंगे, तो मैं 80 और 90 के दशक के सुनहरे दौर की धुनें गुनगुनाऊंगा। उस समय के लोकप्रिय गानों में कालातीत काव्यात्मकता और गहरा दर्शन निहित होता था। एक प्रसिद्ध कहावत है जिससे मैं पूरी तरह से सहमत हूं – संगीत के बिना, जीवन किसी गलती की तरह होगी। मैं संगीत के जादू के बिना जीवन की कल्पना करने से भी कांप जाता हूं। गानें ब्रह्मांड को आत्मा देते हैं और जीवन में जादू भर देते हैं। सभी संगीत प्रेमियों को संगीत दिवस की शुभकामनाएं! आशा है कि हमेशा कोई गाना आपका दिन बना दे।

Related posts

श्रुति बिष्ट ने कलर्स के ‘मिश्री’ के लिए मोपेड बाइक चलाती नज़र आईं

Jansansar News Desk

‘सुहागन चुड़ैल’ की देबचंद्रिमा सिंघा रॉय ने कहा: एक शाही राजस्थानी दुल्हन की तरह सजने का अनुभव अद्भुत था

Jansansar News Desk

‘मेरा बलम थानेदार’ में बरखा बिष्ट ने रहस्यमयी महिला के रूप में एंट्री लेकर हंगामा बरपा दिया है

Jansansar News Desk

‘मिश्री’ स्टार मेघा चक्रवर्ती: “मुझे उम्मीद है कि वाणी का किरदार महिलाओं के लिए आदर्श बनेगा”

Jansansar News Desk

आचार्य महाश्रमणजी के चातुर्मास आगमन पर सूरत में भव्य संयम विहार का निर्माण!

Jansansar News Desk

प्रेम की परिभाषा दर्शाने वाली फिल्म “वार तहेवार” ट्रेलर लॉन्च

Jansansar News Desk

Leave a Comment