Jansansar
बिज़नेस

भारतपे का पेबैक इंडिया अब अपने नए अवतार में – जिलियन नाम से हुआ रिब्रैंड

• ‘अहा एवरीव्हेयर’ की नई टैगलाइन के साथ ग्राहकों को करेंगे आनंदित
• जिलियन के साथ अब ग्राहकों को मिलेंगे अनेक पार्टनर ब्रांड्स पर कॉइन्स अर्जित करने और उन्हें रिडीम करने के अवसर
सूरत: फिनटेक के क्षेत्र में देश के प्रमुख नामों में से एक भारतपे ग्रुप में आज देश के सबसे बड़े लॉयल्टी प्रोग्राम – पेबैक इंडिया को ‘जिलियन’ के रूप में रीब्रांड करने की घोषणा की। यह नई ब्रांड आइडेंटिटी देशभर में जिलियन को लॉयल्टी और रिवार्ड्स के लिए सर्वव्यापी बनाने के कंपनी के विजन के अनुरूप है। यह नया ब्रांड अलग-अलग आयु वर्गों के लोगों को अपने से जोड़ने और उनके सभी केटेगरी और ब्रांड्स के शॉपिंग के अनुभव को एक नया आयाम देने का प्रयास करेगा।
जिलियन अपने ग्राहकों को देशभर में अलग-अलग ब्रांड और पार्टनर के साथ रिवॉर्ड पॉइंट अर्जित करने और उन्हें रिडीम करने के कई अवसर प्रदान करेगा। ग्राहक अब अपने आम खर्चों पर भी जिलियन कॉइन्स अर्जित सकेंगे जिससे अपन जीवन में हर दिन उन्हें छोटे-छोटे खुशियों के पल मिल सकें। जिलियन के लोगो में भी इस छोटी ख़ुशी को और हर जगह वो ‘अहा’ वाला क्षण मिलने के सुखद अनुभव को समाहित किया गया है। सभी ग्राहक अपने ऑनलाइन के साथ ही ऑफलाइन खर्चों पर भी यह जिलियन कॉइन कमा सकेंगे जिसमें किराना, पेट्रोल, मनोरंजन, घूमना, फिरना, अपैरल, आदि की एक विस्तृत श्रंखला शामिल है। जिलियन का नया वेब एड्रेस है: https://zillionrewards.in/
इस री-ब्रांडिंग के अवसर पर जिलियन के सीईओ श्री रिजिश राघवन ने कहा कि, “भारत के सबसे बड़े लॉयल्टी प्रोग्राम के रूप में पेबैक इंडिया को अपने 130 ग्राहकों के बड़े पायदान तक पहुंचाने का पिछले सालों का सफर बेहद लंबा लेकिन संतोषप्रद रहा है। आज का दिन हमारे लिए ऐतिहासिक है, क्योंकि हम अपने इस सफर में आज जिलियन के रूप में एक नए युग में कदम रख रहे हैं। यह नई ब्रांड आईडेंटिटी हमारी रणनीति में एक बहुत बड़ा बदलाव लाएगी, जिसमें हम एक खास और चुनिंदा लॉयल्टी प्रोग्राम को पूरी तरह बदलते हुए अब अनेक पार्टनर और ब्रांड्स की विस्तृत श्रंखला अपने ग्राहकों के सामने पेश करेंगे। यह नया नाम और व्यक्तित्व हमें कई नए ग्राहकों से जुड़ने का मौका देगा, खासतौर पर जेन-ज़ी और मिलेनियल्स के साथ। हम चाहते हैं की जिलियन ग्राहकों ही नहीं बल्कि देशभर के रिटेलर के भी जीवन का हिस्सा बने जिससे वो अपने ग्राहकों को उनकी हर खरीददारी के लिए रिवॉर्ड दे सके। मुझे पूरा यकीन है कि आने वाले महीनों में जिलियन लाखों ग्राहकों की पहली पसंद बनकर उभरेगा।”
वहीं भारतपे के चीफ मार्केटिंग ऑफिसर पार्थ जोशी ने बताया कि, “जिलियन को हमने आज के ग्राहकों को ध्यान में रखते हुए बनाया है। ये ब्रांड यंग, बोल्ड और एनर्जेटिक तो है ही और आम ग्राहकों की जिंदगी में खुशियों के पल रोज देने का प्रयास करेगा। हमें पूरा यकीन है कि इस नए रूप में यह ब्रांड और भी लोगों के लिए लुभावना बनेगा और उनकी जिंदगी में और ‘अहा’ वाले पल दे सकेगा, जिससे उनका हर दिन खास बने। हम आने वाले समय में हमारे मार्केटिंग के कैंपेन भी शुरू करेंगे, जिससे लोगों में जिलियन को लेकर जागरूकता बढ़े और ग्राहक हमसे संपर्क में रहें।”

जिलियन ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें:
1. एंड्राइड – https://play.google.com/store/apps/details?id=com.loyalty.android
2. आइओएस – https://apps.apple.com/in/app/zillion/id6447864577
जिलियन (पूर्व में पेबैक इंडिया) एक विशिष्ट मल्टी-ब्रांड लॉयल्टी प्रोग्राम है जिसका उद्देश्य कस्टमर्स के साथ संपर्क साधना और उनके प्रत्येक खरीद पर उन्हें लॉयल्टी कॉइंस के माध्यम से पुरस्कृत करना है, जिसे बाद में इस्तेमाल किया जा सकता है। वर्तमान में हमारे सदस्य 50 से अधिक ब्रांड्स पर ऑनलाइन और ऑफलाइन खर्च करके यह कॉइंस अर्जित कर सकते हैं और कुछ चुनिंदा पार्टनर ब्रांड्स या प्रोडक्ट और वाउचर के माध्यम से इन्हें रिडीम कर सकते हैं। जिलियन के पार्टनर्स में अलग-अलग इंडस्ट्रीज के कुछ नामी ब्रांड भी शामिल है – जिसमें शॉपिंग, फ्यूल, बैंकिंग, पेमेंट, मनोरंजन, होटल और ट्रेवल से जुड़े ब्रांड शामिल है। कुछ महत्वपूर्ण पार्टनर्स है एचपीसीएल, बुकमायशो, अमेरिकन एक्सप्रेस, अमेजॉन, फ्लिपकार्ट आदि।

Related posts

जी-क्रैंक्ज़ ने गुजरात के अहमदाबाद में एक नया कार्यालय खोलकर अपने परिचालन का विस्तार किया

Jansansar News Desk

कलामंदिर ज्वैलर्स ने “सुवर्ण महोत्सव 2.0” लॉन्च किया

Jansansar News Desk

सोने और चांदी की कीमतों में समानता के लिए केंद्र सरकार की योजना

Jansansar News Desk

हीरे के उत्पादन सेक्टर में रोजगार के अवसर: देश-विदेश में मार्गदर्शन और कमाई के संभावनाएं

Jansansar News Desk

FIDSI ने प्रधान मंत्री को डायरेक्ट सेलिंग उद्योग को समर्थन देने के लिए दिया बजट सुझाव

Jansansar News Desk

कर प्रणाली में समझौते की जरूरत: भारतीय कर विवाद और उनका समाधान

Jansansar News Desk

Leave a Comment