Jansansar
राष्ट्रिय समाचार

कंपनी ने मीडिया, सोशल मीडिया में लगाए गए बैंक धोखाधड़ी के आरोपों से इनकार किया

सूरत: हाई-टेक स्वीट वॉटर टेक्नोलॉजीज प्राईवेट लिमिटेड अपने खिलाफ लगाए गए बैंक धोखाधड़ी और ऋण डिफ़ॉल्ट के निराधार और मानहानिकारक आरोपों से सख्ती से इनकार करता है। इन आरोपों से पता चलता है कि कंपनी के निदेशक कथित तौर पर बैंक ऑफ बड़ौदा से रु. 100 करोड़ का ऋण न चुकाने के बाद देश से बाहर भाग गए हैं।

इसके बारे में जानकारी देते हुए हाई-टेक स्वीट वॉटर टेक्नोलॉजी के निदेशक विजय शाह ने पीएनएन को बताया कि कश्यप इंफ्राप्रोजेक्ट प्राइवेट लिमिटेड के हिरेन भावसार द्वारा बेबुनियाद आरोप लगाए गए थे, जो हाई-टेक स्वीट वॉटर टेक्नोलॉजीज के साथ व्यावसायिक विवादों के इतिहास वाला एक व्यक्ति है। साथ ही पूर्व में कैलाश लोहिया ने कंपनी की बिहार जल परियोजना में भी फर्जीवाड़ा किया था। परियोजना के लिए घटिया सौर पैनल/पंप की आपूर्ति हिरेन भावसार द्वारा की गई थी। कैलाश लोहिया ने हाई-टेक स्वीट वॉटर टेक्नोलॉजीज समूह की कंपनी के शेयरों को अवैध रूप से अपने नाम पर स्थानांतरित कर लिया था और अपनी पत्नी दिशा लोहिया के नाम पर महत्वपूर्ण धन का दुरुपयोग किया था।

और उन्होंने ये कहा कि जेल में महत्वपूर्ण समय बिताने वाले कैलाश लोहिया के खिलाफ सूरत में अपराध शाखा में एक प्राथमिकी दर्ज की गई थी। फिलहाल कैलाश लोहिया और दिशा लोहिया दोनों जमानत पर बाहर हैं। यह मानने के कई कारण हैं कि कैलाश लोहिया, हिरेन भावसार और अन्य लोगों के साथ मिलकर हाई-टेक स्वीट वॉटर टेक्नोलॉजीज की प्रतिष्ठा और ब्रांड को खराब कर रहे हैं।

और उन्होंने ये भी कहा कि बैंक ऑफ बड़ौदा की एसएमई शाखा, जहां हाई-टेक स्वीट वॉटर टेक्नोलॉजीज का खाता है, ने 25 अक्टूबर को बैंक खाते के संतोषजनक प्रदर्शन की ईमेल पर पुष्टि की है कि हाई-टेक में कोई बकाया/अतिदेय राशि नहीं है। स्वीट वॉटर टेक्नोलॉजीज के खाते (कैश क्रेडिट अकाउन्ट और टर्म लोन अकाउन्ट) और इन खातों का “मानक” वर्गीकरण है।

हाई-टेक स्वीट वॉटर टेक्नोलॉजीज के निदेशक विजय शाह ने दोनों कंपनियों के बीच विवादों के इतिहास को साझा करते हुए पीएनएन को बताया कि बिहार परियोजना के लिए पंप सेट की आपूर्ति में कश्यप इंफ्राप्रोजेक्ट की ओर से दोषपूर्ण सामग्री और वितरण में देरी के कारण समस्याएं सामने आईं थी। शुरू में दोषपूर्ण पंप सेट को बदलने के लिए सहमत होने के बावजूद, हिरेन भावसार ने इसका पालन नहीं किया और पैसे की वसूली के लिए सीआईडी सूरत और अठवालाइन्स पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। बाद की पुलिस जांच में आरोप निराधार निकले।

उन्होंने आगे ये भी कहा कि हाई-टेक स्वीट वॉटर टेक्नोलॉजीज के खिलाफ इन्सॉल्वेंसी एंड बैंकरप्सी कोड (आईबीसी) के तहत हिरेन भावसार के आवेदन को 2022 में नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) की अहमदाबाद पीठ ने भी खारिज कर दिया था।

एनसीएलटी में झटका लगने के बाद कश्यप इंफ्राप्रोजेक्ट ने सीबीआई गांधीनगर में अर्जी दाखिल की। बाद में मामला सूरत में आर्थिक अपराध शाखा को स्थानांतरित कर दिया गया। पीआई अजय राजपूत ने जांच की और मीडिया रिपोर्टों के अनुसार हाई-टेक स्वीट वॉटर टेक्नोलॉजीज की ओर से गलत काम करने का कोई सबूत नहीं मिला।

श्री शाह ने इस बात पर जोर दिया कि हिरेन भावसार के आरोपों का उद्देश्य जबरन वसूली के इरादे से हाई-टेक स्वीट वॉटर टेक्नोलॉजीज और उसके निदेशकों की छवि और ब्रांड को खराब करना है। नतीजतन, हाई-टेक स्वीट वॉटर टेक्नोलॉजीज और उसके निदेशकों ने हिरेन भावसार और कश्यप इंफ्राप्रोजेक्ट के खिलाफ रु. 500 करोड़ का आपराधिक मानहानि का मुकदमा दाखिल करने का इरादा किया है। बेबुनियाद आरोप लगाने पर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई भी की जायेगी।

हाई-टेक स्वीट वॉटर टेक्नोलॉजीज 24 साल की विरासत वाली एक सम्मानीय और प्रतिष्ठित कंपनी है, और प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से 2,000 से अधिक व्यक्तियों को रोजगार देती है। विजय शाह और उनका परिवार भारत, थाईलैंड और अमेरिका में 25 वर्षों से व्यवसाय में हैं। उन्होंने 25 साल पहले अमेरिका से भारत में आरओ सिस्टम तकनीक पेश की थी और वे भारत में आरओ जल प्रणालियों के अग्रणी हैं। वे और कंपनी निराधार और मनगढ़ंत आरोपों का सख्ती से खंडन करते हैं।

Related posts

“पूरी दुनिया में सम्मान: पूर्व नासा अंतरिक्ष यात्री स्टीव ली स्मिथ ने भारत की अंतरिक्ष उपलब्धियों की सराहना की”

Jansansar News Desk

कारगिल विजय दिवस: सरसावा एयरफोर्स स्टेशन में 25वीं वर्षगांठ समारोह

Jansansar News Desk

Hathras Stampede News: मुख्य समाचार: ‘भोले बाबा’ की फरारी की गहराईयों से समझें

JD

दिल्ली में भारी बारिश पर आतिशी का बयान: “जल स्तर कम होने में समय लगेगा”

Jansansar News Desk

अयोध्या मंदिर Ayodhya Ram Mandir के PAC जवानों का कैंप: बारिश का सामना करते हुए”

JD

अवैध अदरक लहसुन पेस्ट निर्माण इकाई पर स्पेशल ऑपरेशन टीम द्वारा छापा मारा

JD

Leave a Comment